मध्यकालीन भारत अतिमहत्वपूर्ण नोट्स pdf , part-2

 मध्यकालीन भारत अतिमहत्वपूर्ण नोट्स pdf 

part-2

सैयद वंश:


  • खिज्र खां:- 1414ई से1451ई तक सैयद वश का संस्थापक खिज खां था।
  • खिज खां तैमूरलंग का सेनापति था। भारत से लौटते समय तैमुरलंग ने खिज्र खां को मुल्तान लाहौर एंव दिपालपुर का शासक नियुक्त किया।
  • खिज खां की मृत्यु 20मई 1421ई के पश्चात् उसका पुत्र मुबारकशाह ने सैयद वंश का शासक बना।
  • यमुना किनारे मुबारकाबाद की स्थापना मुबारक शाह ने की ।
  • सैयद वंश का अन्तिम सुल्तान अलाउद्दीन आलमशाह था । 
  • सैयद वंश का शासन करीब 37 वर्षों तक रहा।


लोदी वंश


  • बहलोल लोदी:- 1451ईसे 1526ई तक लोदी वंश का सस्थापक बहलोल लोदी था ।
  • 19 अप्रेल 1451 ई को वह दिल्ली के शासन पर बैठा।
  • दिल्ली पर प्रथम अफगान शासन का श्रेय बहलोल लोदी को हैं।
  • सिकन्दर लोदी ने 1504 ई में आगरा शहर की स्थापना की।
  • भूमि मापने के लिए प्रमाणिक पैमाना गज ए सिकन्दरी प्रचलन भी सिकन्दर लोदी ने किया ।
  • सिकन्दर लोदी ने आगरा को अपनी नई राजधानी बनाया ।
  • 21 नवम्बर 1517ई को सिकन्दर लोदी मृत्यु उपरान्त उसका पुत्र इब्राहिम लोदी दिल्ली के शासन पर बैठा। 
  • दिल्ली सल्तनत का एक मात्र शासक जो युद्ध क्षेत्र में मारा गया था - इवाहिम लोदी (लोदी वंश) का अंतिम शासक था।
  • 21अप्रैल 1526ई पानीपत का प्रथम युद्ध इब्राहिम लोदी एंव बाबर के मध्य हुआ। जिसमें लोदी हार गया एवं मारा गया।
  • मुगल शासक बाबर को भारत पर आक्रमण करने का निमंत्रण पंजाब के शासक दौलत खां लोदी एंव आलम खां ने दिया।

विजयनगर साम्राज्य


  • विजयनगर साम्राज्य की स्थापना 1336 ई मे हरिहर एवं बुवका नामक दो भाइयों ने की थी। 
  • विजयनगर का शाब्दिक अर्थ है- जीत का शहर
  • विजयनगर साम्राज्य की राजधानी हम्पी थी। 
  • विजयनगर की राजभाषा तेलुगु थी।
  • बाबर ने अपनी आत्मकथा बाबरनामा में कृष्णदेव सर्वाधिक शक्तिशाली राजा बताया है। 
  • कृष्णदेव राय के दरबार में तेलुगू साहित्य के आठ सर्वश्रेष्ठ कवि राय को भारत का रहते थे जिन्हें अष्ट दिग्गज कहा जाता था। 
  • कृष्णदेव राय शासनकाल को तेलुगू साहित्य का 'क्लासिक युग' कहा गया है।
  • मंदिरों में रहनेवाली स्त्रियों को देवदासी कहा जाता था । 
  • विजयनगर की मुद्रा पेगोडा थी।
  • इब्राहिम लोदी (लोदी वंश) का अन्तिम शासक था।


बहमनी राज्य


  • मुहम्मद बिन तुगलक के शासनकाल में 1347 ई. में हसनगंगू ने बहमनी राज्य की स्थापना की। वह अलाउद्दीन हसन बहमन शाह के नाम से सिंहासन पर बैठा।
  • . मुहम्मद बिन तुगलक ने अपनी राजधानी गुलबर्गा को बनाया। इसकी राजभाषा मराठी थी।
  • •अलाउद्दीन हसन के पश्चात उसका पुत्र मुहम्मद शाह प्रथम सुल्तान बना। 
  • इसके काल में ही सबसे पहले बारूद का प्रयोग (बुक्का के विरूद्ध) हुआ।
  • बहमनी राज्य की मुद्रा हूण थी।


स्वतंत्र प्रान्तीय राज्य

कश्मीर


  • • सूहादेव नामक एक हिन्दू ने 1301 ई. में कश्मीर में हिन्दू राज्य की स्थापना की थी।

  • सूफी आन्दोलन 
  • जो लोग सूफी संतों से शिष्यता ग्रहण करते थे उन्हें मुरीद कहा जाता था । 
  • सूफी जिन आश्रमों में निवास करते थे उन्हें खानकाह या मठ कहा जाता था।
  • ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती ने भारत में चिश्ती सिलसिला की शुरूआत की।
  • चिश्ती सिलसिला का मुख्य केन्द्र अजमेर था। बाबा फरीद की रचनाएँ गुरुग्रंथ साहिब में शामिल हैं।

  • भक्ति आन्दोलन

  • छठी शताब्दी में भक्ति आन्दोलन का शुरूआत तमिल क्षेत्र से हुई जो कर्नाटक और महाराष्ट्र में फैल गई।
  • भक्ति कवि सन्तों को सन्त कहा जाता था। सन्तों के दो समूह थे
  • पहला- वैष्णव सन्त समूह (ये भगवान विठोबा के भक्त थे ) o 
  • दूसरा निर्गुण सन्त समूह 
  • भक्ति आन्दोलन को दक्षिण भारत से उत्तर भारत में रामानन्द के द्वारा लाया गया । 
  • रामानंद की शिक्षा से दो संप्रदायों का प्रादुर्भाव हुआ सगुण जो पुनर्जन्म में विश्वास रखता है और निर्गुण जो भगवान के निराकर रूप को पूजता है।
  • सगुण संप्रदाय के सबसे प्रसिद्ध व्याख्याताओं में थे तुलसीदास और नागदास जैसे रामभक्त और निम्बार्क वल्लभाचार्य, चैतन्य, सूरदास और मीराबाई जैसे कृष्णभक्त
  • निर्गुण सम्प्रदाय के सबसे प्रसिद्ध प्रतिनिधि थे कबीर, जिन्हें भावी उत्तर भारतीय पथों का आध्यात्मिक गुरु माना गया है। 


भक्ति आन्दोलन के सन्त


  • रामानंदः

  • रामानंद का जन्म 1299 ई. में प्रयाग में हुआ था।
  • रामानंद की शिक्षा प्रयाग तथा वाराणसी में हुई।
  • रामानंद ने अपना सम्प्रदाय सभी जातियों के लिए खोल दिया ! रामानुज की भांति इन्होंने भी भक्ति को मोक्ष का एकमात्र साधन स्वीकार किया ।
  • रामानंद के प्रमुख शिष्य थे- रैदास (चमार), कबीर (जुलाहा), धन्ना (जाट), सेना (नाई), पीपा (राजपूत) । कबीर के उपदेश सबद सिक्खों के आदिग्रंथ में संगृहीत है।
  • कबीर की वाणी का संग्रह 'बीजक' (शिष्य धर्मदास द्वारा संकलित) नाम से प्रसिद्ध है।


गुरू नानक


गुरु नानक का जन्म 1469 ई. अविभाजित पंजाब के तलवण्डी नामक स्थान पर हुआ। जो अब ननकाना साहिब के नाम से विख्यात है।

नानक ने सिक्ख धर्म की स्थापना की। गोस्वामी तुलसीदास 

गोस्वामी तुलसीदास ने रामचरित मानस की रचना की।

🔥🔴🔴🔴🔴🔴🔥

My official website (www.orjaat.in) 👉 LINK

My official website (liveexamhood.com) 👉 LINK

---------------------------------------------

📷YouTube (OR JAAT) 👉 LINK

📷Instagram (OR JAAT) 👉 LINK

📷Telegram Channel (OR JAAT MOTIVATION) 👉 LINK

📷Facebook PAGE (Omaram Chaudhary) 👉 LINK

📷Tweeter (OR JAAT) 👉 LINK

---------------------------------------------

Disclaimer:-🚷

Copyright Disclaimer under section 107 of the Copyright Act of 1976, allowance is made for “fair use” for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, education and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing

4 टिप्पणियाँ

और नया पुराने